Veda

चारों वेद डाउनलोड करें, FREE ALL VEDA PDF DOWNLOAD

दोस्तों! हमारे जीवन में वेद (Veda ) का बड़ा ही महत्व हैं। कहते हैं, ” वेदों में सभी समस्याओं का हल मिल जाता हैं।” तो हम आपकी सुविधा के लिए चारों वेद pdf में उपलब्ध करवा रहें है!

1. ऋग्वेद (veda)

ऋग्वेद के बारें में कुछ जान लेते हैं। और आप सम्पूर्ण वेद यहाँ से डाउनलोड कर सकेंगे।

ऋग्वेद-भाग – 1 Download

ऋग्वेद-भाग -2 Download

इस वेद में 10 मंडल (अध्याय) हैं। जिसमे 1028 सूक्त है। इसमें 11 हजार मन्त्र हैं।

प्रथम मंडल इनमे सूक्तों की संख्या भी 191 है। प्रथम मण्डल के रचयिता अनेक ऋषि हैं।

द्वितीय मंडल- इसके रचयिता गृत्समय ऋषि थे

तृतीय मंडल- विश्वासमित्र

चतुर्थ मंडल- वामदेव।

पंचम मंडल- अत्रि

षष्ठम मंडल -भारद्वाज

सप्तम मंडल- वसिष्ठ

अष्टम मंडल कण्व व अन्गिरा

नवम मंडल

दशम मंडल- इस मंडल में औषधियों का वर्णन मिलता है।औषधियां 125 के लगभग बताई है , जो 107 स्थानों पर पाई जाती है।

कहा जाता है कि ऋग्वेद में दूसरे से लेकर सातवें मंडल को मुख्य माना जाता हैं।

औषधि में सोम का विशेष वर्णन मिलता है।

सम्बंधित आर्टीकल ➖ श्रीमद्भगवद्गीता हिन्दी- संस्कृत,पंजाबी,English download करें।

2. यजुर्वेद (veda)

यजुर्वेद के बारें में कुछ जान लेते हैं। और आप सम्पूर्ण वेद यहाँ से डाउनलोड कर सकेंगे।

यजुर्वेद – Download

इसका अर्थ : यत् + जु = यजु। यत् का अर्थ होता है- गतिशील तथा जु का अर्थ होता है-आकाश

इस वेद में यज्ञ की विधियां बताई गई हैं। और यज्ञों में प्रयोग किए जाने वाले मंत्र भी हैं।

इस वेद की दो शाखाएं हैं।

शुक्ल : याज्ञवल्क्य ऋषि। इसकी भी दो शाखाएं हैं। इसमें 40 अध्याय हैं।

कृष्ण :वैशम्पायन ऋषि। इसकी भी चार शाखाएं हैं।

3. सामवेद

सामवेद के बारें में कुछ जान लेते हैं। और आप सम्पूर्ण वेद यहाँ से डाउनलोड कर सकेंगे।

सामवेद – Download

साम का अर्थ रूपांतरण और संगीत

सामवेद गीत के रूप में है।  इस को संगीत शास्त्र का मूल माना जाता है। इसमें 1824 मंत्र हैं,जिनमे से 75 ही नये हैं बाकी सब ऋग्वेद से ही लिए गए हैं।

इसमें 3 मुख्य शाखाएं हैं।

4 .अथर्ववेद

इसके बारें में कुछ जान लेते हैं। और आप सम्पूर्ण वेद यहाँ से डाउनलोड कर सकेंगे।

अथर्ववेद भाग -1 Download

अथर्ववेद भाग- 2 Download

थर्व का अर्थ होता है-कंपन और इसी प्रकार अथर्व का अर्थ अकंपन

इसमें रहस्यमयी विद्या, जड़ी बूटियाँ, चमत्कार, आयुर्वेद आदि का वर्णन है। ईसमे 20 अध्याय हैं जिनमें 5687 मंत्र है। आठ खण्ड हैं।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: