Virtual reality

virtual reality (VR) technology क्या हैं?? यह कैसें काम करती हैं।

दोस्तों! Virtual reality (VR) एसी तकनिक हैं, जिसके माध्यम से आप काल्पनिक दुनिया को बना सकतें हैं। बनाने से आशय हैं कि आप काल्पनिक दुनिया महसूस कर सकते हैं। जैसें- आपको संसार भ्रमण करना हैं तो आपको वर्चुअल रियलिटी सेट पर बैठना होता हैं और आपकों एसा लगता है जैसें की आप खुद ही उड़ रहें हैं और दुनिया को देख रहें हैं।

तो आइए इसके बारें में विस्तार से जानतें हैं।

What is virtual reality in simple words? ( सामान्य शब्दों में वर्चुअल रियलिटी क्या हैं?)

वर्चुअल रियलिटी एक कृत्रिम वातावरण हैं। जिससे आपकों वास्तविकता की अनुभूति होतीं हैं,लेकीन वास्तव होता नहीं हैं। यह सॉफ्टवेयर के माध्यम से बनाया जाता तो और देखने वाले के सामने इस प्रकार प्रस्तुत किया जाता हैं कि देखने वाले का दिमाग,उस कल्पनिकता को यथार्थ समझ बैठता हैं।

हमारे शरीर में बाहरी वातावरण का आभास कराने के लिए 5 इन्द्रियाँ होती हैं। वर्चुअल रियलिटी पांच इंद्रियों में से दो इंद्रियों के माध्यम से अनुभव की जाती हैं। वह दो इन्द्रियाँ हैं-

  1. दृष्टि।
  2. ध्वनि ।

अब आप सोच रहें होंगे कि वीडियो में भी ये ही 2 इन्द्रियाँ काम करती हैं। तो फिर वीडियो ओर वर्चुअल रियलिटी में अन्तर तो हैं। आइए जानते हैं।

यह भी पढ़े ⬇️⬇️

Virtual currency क्या होती हैं??

Virtual mobile number क्या होता हैं?

Why do we need virtual reality? (हमें वर्चुअल रियलिटी की जरूरत क्यों हैं?)

  1. वर्चुअल रियलिटी के माध्यम से vr exposure therapy की जाती हैं,जो कि human being के लिए एक इलाज़ से कम नहीं हैं।

VR EXPOSURE THERAPYइस थेरेपी से किसी व्यक्ति के चिंता, भय और अवसाद का इलाज आसानी से किया जा सकता हैं। यह रोगियों के लिए एक सुरक्षित वातावरण प्रदान कर सकती है। जैसें- किसी व्यक्ति को टेंशन के वातावरण से निजात दिलाना हैं तो उसे वर्चुअल रियलिटी के जरिए एक बार वर्ल्ड ट्युर करवा दो, ताकि वह व्यक्ति शान्ति का अनुभव कर सकें।

2. काल्पनिक दुनिया को महसूस करने के लिए।

What exactly is virtual reality? (वास्तव में वर्चुअल रियलिटी क्या हैं?)

वर्चुअल रियलिटी (VR) कंप्यूटर तकनीक का उपयोग कर एक नकली वातावरण बनाने की तकनीक हैं। पुराने समय में जिस प्रकार एक स्क्रीन के सामने बैठकर ही वीडियो का आनन्द लिया जाता था। इसके विपरीत वर्चुअल रियलिटी आपको स्वयं ही देखने जैसी बात का अनुभव देता हैं। जिसमें आप 3D का भी आनन्द ले सकते हैं।

Types of virtual reality (वर्चुअल रियलिटी के प्रकार)

वर्चुअल रियलिटी को सामान्यतया 3 भागो में बांटा जाता हैं।

1. Fully-immersive

इस प्रकार की वर्चुअल रियलिटी में आपको head-mounted displays, headphones, gloves, treadmill और कभी कभी suspension उपकरण भी मिल सकतें हैं। इसमें आपकों अधिक वास्तविकता का अहसास होता हैं।

2. SEMI-immersive

इसमें आपको आंशिक रूप से वास्तविकता का आभास होता हैं। यह तकनीक education और ट्रेनिंग में ज्यादा काम आती हैं। इसमें कुछ ग्रापिक्स का उपयोग कर वास्तविकता create की जाती हैं। इस तकनीक में कुछ भाग वास्तविक और कुछ भाग ग्राफिक्स के द्वारा create किया जाता हैं। इसे MIXED REALITY (MR) भी कहतें हैं।

उदहारण-

  1. प्लेन चलाना सिखना।
  2. किसी भी प्रकार की ड्रॉइंग सिखाना।

3. NON-immersive

यह एक तरह से वीडियो कंटेंट ही हैं। दैनिक दिनचर्या में आने वाले समस्त वीडियों इसी श्रेणी में आते हैं।

What is virtual reality device? ( वर्चुअल रियलिटी उपकरण क्या हैं?)

वर्चुअल रियलिटी एक हेड-माउंटेड डिवाइस है जिसे पहनने ले बाद पहनने वाले को वास्तविकता का अनुभव होता हैं। VR सबसे ज्यादा उपयोग gamingमें किया जाता है।

  1. VR headset
  2. VR pop ups आदि।

Virtual reality applications (वर्चुअल रियलिटी ऐप्लिकेशनस कौन कौन से हैं?)

ये सभी एप्प android/iOs डिवाइस में काम करते हैं।

  1. You tube
  2. Google cardboard
  3. VRSE
  4. NYT VR
  5. Guardian
  6. ORBULUS
  7. SEENE
  8. JAUNT
  9. InCELL
  10. RYOT

आदि कई सारी ऐप्लिकेशनस हैं जो वर्चुअल रियलिटी के लिए काम मे ली जाती हैं।

How does virtual reality work?? ( वर्चुअल रियलिटी कैसें काम करता हैं?)

यह तकनीक अपने उपभोक्ता को कंप्यूटर के द्वारा बनाआई गई ऐसी दुनिया में ले जाती है, जहां 3D इमेजेज और ग्राफिक्स मौजूद होते हैं। जिनके माध्यम से उपयोगकर्ता को ऐसा लगता है, जैसे कि वह किसी वास्तविक दुनिया में ही विचरण कर रहा है।

यह डिवाइस में उपलब्ध विभिन्न प्रकार के सेन्सर्स का उपयोग करके उपयोगकर्ता के साथ ऐसी स्थिति उत्पन्न करती है जिससे उपयोगकर्ता को अधिक वास्तविकता की अनुभूति होती है।

जैसे- इसमें उपयोगकर्ता की आंखों और सिर की गति को इस प्रकार रखा जाता है जैसे की वह स्वयं डिस्प्ले में मौजूद कंटेंट में वह विचरण कर रहा हैं।

Advantages of virtual reality ( वर्चुअल रियलिटी के लाभ)

  1. रियलिटी में कही घुमने जाने से सस्ता होता हैं।
  2. कम समय में ज्यादा एरिया कवर कर सकतें हैं।
  3. ट्रेनिंग अच्छे से दी जा सकती हैं।
  4. तनाव को दूर करने के लिए इंटरटेनमेंट अच्छे से किया जा सकता हैं।
  5. विभिन्न क्षेत्रों में प्रशिक्षण कार्यक्रम आसानी से आयोजित किये जा सकते हैं।
  6. लोगों से आसानी से संपर्क में रहा जा सकता हैं।
  7. कम्युनिकेशन करने में सुविधा रहतीं हैं।
  8. किसी भी न्यू आइडिया के बारें में डिटेल से समझाया जा सकता हैं।
  9. इसके प्रयोग से रोचकता भी आ जाती हैं।

Harms of virtual reality ( वर्चुअल रियलिटी की हानियाँ)

  1. लोगों के पूरे ग्रुप में एक साथ नहीं फैलाया जा सकता हैं।
  2. बहुत सी बार एसे होता हैं कि लोगों को आदत सी लग जाती हैं।
  3. यह तकनीक अभी उच्च लेवल पर नहीं हैं, इसलिए कई बार कुछ issue आ जाते हैं।
  4. VR में ट्रेनिंग और वास्तव में ट्रेनिंग में अन्तर होता हैं।
  5. फिर भी इसके लाभों को देखतें हुए हानियों का कोई स्थान नहीं हैं।

सारांश

दोस्तों आशा करता हूँ कि आपको VR के बारें में अच्छे से समझ आ गया होगा। फिर भी आपके कोई सवाल हो तो बेझिझक कमेंट बॉक्स मे कमेंट करें। हमारी टीम हरसंभव सवालो के जवाब देने की कोशिश करेगी।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: