INCOME TAX

INCOME TAX में छूट पाने के 11 तरीके-

Income Tax में छूट पाने के लिए इंवेस्टमेंट प्रूफ जमा करने के लिए वेतनभोगी कर्मचारियों के पास उनके संस्थान के मेल भी आ चुके हैं। इस महीने आपको अपने वो सभी दस्तावेज जैसे बचत, पीपीएफ, बीमा, राष्ट्रीय बचत पत्र, ट्यूशन फीस, मकान के किराए की रसीदें आदि जुटाने शुरू कर दिए होंगे। बता दें आप इनकम टैक्स (Income Tax ) कानून के सेक्शन 80C के तहत आने वाले निवेश विकल्पों में 1.5 लाख रुपये से अधिक का भी निवेश कर सकते हैं। टैक्स बचत के हिसाब से कर लाभ केवल 1.5 लाख रुपये तक ही सीमित होगा। 80C के तहत निवेश के कई विकल्प जैसे PPF, PF, ELSS, टैक्स सेवर FD समेत अन्य मौजूद हैं।

Income Tax बचत के लिए कुछ लोकप्रिय निवेश उत्पादों के बारे में बात करते हैं…

1. जीवन बीमा/मनी बैक योजना

जीवन बीमा या मनी बैक के प्रीमियम पर इनकम टैक्स में छूट मिलता है। जीवन बीमा में ULIP और ट्रेडिशनल प्लान दोनों आते हैं। 80C के तहत टैक्स छूट के लिए कम से कम 2 साल के लिए प्रीमियम भरना जरूरी है और सालाना प्रीमियम सम-एश्योर्ड के 10% से ज्यादा न हो।

2. सुकन्या समृद्धि योजना (SSY)

इस सरकारी योजना का लाभ उठाकर इनकम टैक्स में छूट पा सकते हैं। इसके तहत निवेश करने करने के लिए बेटी के नाम से खाता खुलवाएं इसके लिए जरूरी है कि बेटी की उम्र 10 साल से कम हो। खाते की परिपक्वता बेटी के 21 साल के होने पर होती है।

3. पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF)

छोटी बचत योजनाओं में से एक पब्लिक प्रोविडेंट फंड एक लोकप्रिय स्कीम है। टैक्स में छूट पाने का ये सबसे बेहतर तरीका है। आप पीपीएफ में जो भी रकम जमा करते हैं, उस पर सेक्शन 80C के तहत छूट मिलती है। पीपीएफ अकाउंट का मैच्योरिटी पीरियड 15 साल का होता है। हालांकि 7 साल बाद भी इस स्कीम में से कुछ रकम निकाली जा सकती है।

4. नेशनल पेंशन स्कीम (National Pension Scheme)

प्राइवेट नौकरी करने वाले लोगों के लिए नेशनल पेंशन स्कीम टैक्स बचाने का सबसे बेहतर विकल्प है। इस स्कीम में निवेश करके रिटायरमेंट के बाद पेंशन पा सकते हैं। इस स्कीम में 50 हजार रुपये निवेश करके टैक्स छूट का फायदा उठाया जा सकता है। ये 80 सी के लिमिट के अलावा है।

5. EPF/VPF

अगर आप नौकरीपेशा हैं तो आपका EPF में निवेश होगा। इसके तहत हर महीने सैलरी में से तय रकम EPF में जमा होती है। कंपनी भी आपके लिए EPF में जमा रकम करती है। EPF में आपके योगदान पर टैक्स छूट तो मिलता है पर कंपनी को नहीं। आप EPF में अपने योगदान को बढ़ा सकते हैं। यह योगदान VPF में किया जा सकता है। इस पर भी 80C के तहत मिलेगी छूट

6. ELSS

ELSS यानि इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम। ELSS एक डायवर्सिफाइड इक्विटी फंड है। इसमें कम से कम 80% निवेश इक्विटी फंड में होता है। इसमें 80C के तहत टैक्स में छूट मिलती है । इस स्कीम का लॉक-इन पीरियड 3 साल का होता है।

7. कम से कम 5 साल की बैंक FD

टैक्स बचाने के लिए FD भी एक लोकप्रिय निवेश है। इसके तहत कम से कम 5 साल की एफडी पर आपको टैक्स में छूट मिलती है। हालांकिFD पर मिले ब्याज पर टैक्स लगता है।

8. पोस्ट ऑफिस में पांच साल की जमा

बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट की तरह आप पोस्ट ऑफिस में भी 5 साल के लिए रकम जमा करके टैक्स में छूट का लाभ ले सकते हैं। ध्यान रहे, बीच में रकम निकाली तो टैक्स का लाभ नहीं मिलेगा।

9.होम लोन

IT एक्ट के सेक्शन 24(b) के तहत घर खरीदने, बनाने, रेनोवोट/रिपेयर करने के लोन पर टैक्स में छूट मिलता है। इतना ही नहीं लोन के ब्याज पर टैक्स में छूट मिलती है। इसका फायदा रेजिडेंशियल और कमर्शियल दोनों तरह की प्रॉपर्टीज पर मिलता है। इसके अलावा प्रोसेसिंग फीस, प्रीपेमेंट चार्जेस पर भी छूट का लाभ ले सकते हैं। होम लोन की प्रिंसिपसल अमाउंट पर भी टैक्स में छूट मिलती है। सेक्शन 80C के तहत 1.5 लाख रुपये तक की टैक्स में आप छूट पा सकते हैं।

10.एजुकेशन लोन

अगर आपने बैंक और चैरिटेबल ट्रस्ट से लिया है एजुकेशन लोन लिया है और जिस साल में लोन भरना शुरू करेंगे तब से 8 साल तक आपके ब्याज पर छूट मिलेगी। टैक्स में छूट का फायदा भुगतान के आधार पर मिलता है। अगर कई सालों का ब्याज 1 साल में ही भरा है तो उसी साल में टैक्स छूट का फायदा मिलेगा।

11. बच्चों की ट्यूशन फीस

इनकम टैक्स में छूट का फायदा आपके दो बच्चों के स्कूल/कॉलेज की ट्यूशन फीस पर मिलता है। इसके तहत निजी ट्यूशन, कोचिंग, पार्ट-टाइम कोर्स पर छूट नहीं मिलती।

Source- http://Www.livehindustan.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: