Browser

browser कौनसा अच्छा होता हैं?

कौनसा browser अच्छा होता हैं,इससे पहले ये जान लेते हैं कि ब्राउज़र क्या होता हैं? सभी इंटरनेट यूजर्स जानते हैं कि वेब browser क्या होता है। अभी आपके दिमाग में भी आ रहा होगा कि ब्राउजर हैं इसमें क्या बात है ये तो मैं भी जानता हूं। जैसे:- क्रोम ब्राउज़र, ओपेरा मिनी ब्राउज़र, ओपेरा ब्राउज़र,मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स ब्राउज़र, इंटरनेट एक्सप्लोरर ब्राउज़र ,यू सी ब्राऊजर वगैरा वगैरा। लेकिन web browser उतना भी आसान नहीं हैं जितना आप समझ रहे हैं। यह बहुत ही जटिल प्रोग्रामिंग एप्लिकेशन है जिसके माध्यम से हम इंटरनेट की दुनिया में घुस सकते हैं। और किसी भी वेबसाइट या किसी भी ब्लॉग को विजिट कर सकते हैं।

Browser और search engine में क्या अन्तर होता हैं

ब्राउजर(WWW) वर्ल्ड वाइड वेब से इंफॉर्मेशन कलेक्ट करने के लिए एक प्रोग्रामिंग एप्लिकेशन होता है जिसके माध्यम से वर्ल्ड वाइड वेब पर स्थित सभी कंस्टेंट्स को हम एस्सेस कर सकते हैं। कुछ लोग यह सोचते हैं कि सर्च इंजन और ब्राउजर एक ही है। लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि सर्च इंजन एक अलग थिंग है और ब्राउजर एक अलग थिंग है। सर्च इंजन एक वेबसाइट है जो कि अपने कस्टमर को विजिट करने के लिए अलग-अलग वेबसाइट्स अवेलेबल कराती है। जबकि ब्राउज़र एक प्लेटफार्म है जिसके माध्यम से हम किसी भी वेबसाईट ,वीडियो ,ऑडियो ,इमेज इत्यादि तक पहुंच सकते हैं या उन्हें विजिट कर सकते हैं।

कुछ पॉपुलर web browser के बारें में जान लेते हैं:-

1. गूगल क्रोम ब्राऊजर:- 🌐

इस ब्राऊजर का विकासकर्ता (DEVELOPER) GOOGLE LCC है। यह ऐप्लिकेशन 2 सितंबर 2008 को रिलीज किया गया था। इस ब्राऊजर में C, C++, java script, phyton भाषा का प्रयोग किया गया हैं। यह ब्राऊजर लगभग 47 भाषाओं में प्रयोग लाने के लिए बनाया गया हैं। यह ब्राऊजर एंड्रोएड वर्जन kitkat और इससे आगे वाले ऑपरेटिंग सिस्टम मे चलता हैं। इसकी ओफिसियल वेबसाइट यह हैं। यह ब्राऊजर गूगल के द्वारा विकसित किया हुआ हैं तो obviously trust build up हो जाता हैं। इस ब्राऊजर की सुरक्षा एवम् स्पीड ही युजर्स को सबसे अच्छी लगती हैं।

यह भी पढ़े ➡️➡️ कौनसा यू आर एल सेफ होता हैं?

2. ओपेरा ब्राऊजर:- 🅾️

इस ब्राऊजर को बनाने वाली कम्पनी है ऑपेरा सोफ्टवेयर ( ASA)। यह ब्राऊजर 10 अप्रेल 1995 को रिलीज़ किया गया था। इस ब्राऊजर मे C++ लेंग्वेज का प्रयोग किया गया हैं । इसका ओपरेटिँग सिस्टम window 7 (और इससे आगे), एन्ड्रोएड, linux आदि हैं। यह ऐप्लिकेशन लगभग 40 भाषाओं में उप्लब्ध हैं। इनकी ओफिसियल वेबसाइट www.opera.com हैं। यह ब्राऊजर भी अपने आप मे कम नहीं हैं। इस ब्राउज़र मे night mode , incognito browsing, force enable zoom, large icon, data saving, appearance customization आदि कई सारी सुविधाएँ मिलती हैं।

3. मोजिला फायरफॉक्स ब्राऊजर:-

इस ब्राऊजर के खोजकर्ता- मोजिला कोर्पोरेशन। इस ब्राउज़र की खोज के बाद मोजिला कोर्पोरेशन और मोजिला फाऊंडेशन दोनों ने मिलकर विकास किया। यह ब्राऊजर 23 सितम्बर 2002 को रिलीज किया गया था।
इस ब्राउज़र को C++XULXBLJavaScript,CSS लैंग्वेज मे लिखा गया।
यह ब्राउज़र लगभग 79 भाषाओं मे विकासित किया गया है। इस ब्राउज़र की ओफिसियल वेबसाइट www.mozilla.com/firefox है।

विभिन्न सूत्रों के अनुसार, यह ब्राउज़र तीसरा सबसे लोकप्रिय वेब ब्राउजर बन गया है।

4. विंडोज़ इंटरनेट एक्सप्लोरर:-

इस ब्राउज़र का विकास माइक्रोसॉफ़्ट कम्पनी ने किया। इसका मूलतः लेखक Thomas Reardon माना जाता है। यह ब्राऊजर 16 अगस्त 1995 मे विकसित किया गया था। यह ब्राऊजर 90 के दशक का सबसे प्रसिध्द माना जता है। यह ब्राउज़र लगभग 95 लैंग्वेज मे उपलब्ध है। इस ब्राउज़र का पुराना नाम – माइक्रोसॉफ्ट इंटरनेट एक्सप्लोरर था। जिसे शार्ट मे M.S.I.E. भी कहते हैं। वर्तमान मे इसको I.E. नाम से भी जाना जाता हैं।

गूगल बाबा की मानें तो यह ब्राउजर क्रोम ब्राउजर(CROME)और ओपेरा(OPERA) ब्राउज़र से भी अधिक शक्तिशाली और सुरक्षित है। इस ब्राउजर में दो एडवांस सुरक्षा उपकरण जोड़े गए हैं। जिससे उपभोक्ताओं को किसी भी प्रकार की असुरक्षा का सामना न करना पड़े।

पहली सुविधा है- क्रोस साईट फिशिंग। यानी किसी वेब पन्नों पर रखी हुई हानिकारक स्क्रिप्ट को यह ब्राउज़र पहचान कर उनको अपने कम्प्यूटर में लोड होने से रोक लेता है।

दूसरी सुविधा है- क्लिक हाइजेकिंग। क्लिक हाइजेकिंग से आशय है कि किसी वेब पेज पर कोई बटन दिखाया जाता है। जिसको प्रेस करने से अगला पेज खुलता है। लेकिन वास्तव में उस बटन में हाईजेक स्क्रिप्ट होती है। जो अपने डिवाइस या कम्प्यूटर में डाउनलोड हो जाती है। यह ब्राउजर उन सभी चीजों को पहचानकर उपभोक्ता की सुरक्षा को बनाये रखता है।

5. सफ़ारी वेब ब्राउज़र:-

सफारी वेब ब्राउजर एप्पल के द्वारा लॉन्च किया गया था। हाल ही सफारी ब्राउजर का वर्जन 4 लॉन्च किया है। जिसमें नाइट्रो इंजन का इस्तेमाल किया गया है जिससे कि इस ब्राऊजर की स्पीड अधिक बढ़ जाती है। इस वर्जन में सिक्योरिटी के कोई भी फीचर एड नहीं किए हैं। लेकिन इसमें सिक्योरिटी के पुराने समस्त फीचर्स अवेलेबल है। यह 7 जनवरी 2003 को लॉन्च किया गया था। यह ऐप्लिकेशन एंड्रॉयड सपोर्टेड नहीं है यह वेब ब्राउजर एप्पल के द्वारा विकसित किये गए डीवाइसेज में ही चलता है। यह C++ , ऑब्जेक्टिव C और SWIFT लैंग्वेज में लिखा गया है।

6. यू सी ब्राऊजर:-

यह वेब ब्राउजर यूसी वैब द्वारा विकसित किया गया था। सबसे पहले ये सिंगापुर में ही सबसे अधिक चला था वहां पर अपने यूजर बेस बनाने के बाद ये इंडिया में भी आ गया। यूसी ब्राउजर अप्रेल 2004 में बनाया गया था। जो केवल जावा (J2ME) के लिए था। लेकिन यह अब एंड्रॉयड, ओएस ब्लैकबेरी, विंडो सभी के लिए अवेलेबल है। यह लगभग 15 भाषाओं मे उपलब्ध है।

सारांश

यह पोस्ट स्पॉन्सर्ड नहीं है वेब ब्राउज़र की विशेषताएँ और उनके फीचर्स के आधार पर आप स्वयं आकलन कर सकते हैं कि कौन सा ब्राउजर सही है।

आशा करता हूं कि आपको ब्राउज़र के बारे में अच्छेसे समझ आ गया होगा। फिर भी आपके दिमाग में कोई सवाल हो तो बेझिझक कमेंट बॉक्स में पूछे। हमारी टीम आपके हर सवाल का जवाब देने के लिए हमेशा तैयार हैं।

धन्यवाद।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: